�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Monday, July 20, 2020

कोरोना ने लोगों में तनाव, चिंता, घबराहट और अनिद्रा की समस्या बढ़ाई कोविड वार्ड में भर्ती 30 फीसदी मरीज व ड्यूटी कर रहे डॉक्टर भी प्रभावित

कोरोना संक्रमण के कारण दिनचर्या में हुए बदलाव के कारण लोगों में तनाव, घबराहट, अनिद्रा व धड़कन बढ़ने की समस्या बढ़ रही है।
इसकी चपेट में न केवल सामान्य लोग हैं बल्कि कोरोना से संक्रमित होने वालों में करीब 30 फीसदी ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें अनिद्रा की शिकायत हो रही है। उन्हें इस समस्या से उबरने के लिए काउंसिलिंग व दवा लेनी पड़ रही है। भास्कर ने सोमवार को मेडिकल काॅलेज अस्पताल में मानसिक रोग विभाग के ओपीडी व कोविड उपचार केंद्र में भर्ती मरीजों का रिकार्ड खंगाला तो यह बातें सामने आई। मानसिक रोग की ओपीडी में पहले रोज औसत 2 मरीज पहुंचते थे, वहीं जून से यह औसत बढ़कर 3 से अधिक हो गया है। क्योंकि अप्रैल में सिर्फ 71 मरीज आए थे, जबकि जून में 101 लोग मानसिक रोग की समस्या लेकर पहुंचे। इनमें युवा अधिक थे। जुलाई में अब तक इनकी संख्या 71 पहुंच गई है। विशेषज्ञ बताते हैं कि इसके कई कारण हैं। इसमें एक ही बात काे लेकर कोई ज्यादा सोचने लगता है। इससे उसके अंदर डर बनने लगता है।

डॉक्टर ने बताया: मेरे कारण परिवार संक्रमित न हो जाए, इससे बढ़ी है चिंता
मेडिकल काॅलेज अस्पताल के कोविड उपचार केंद्र में ड्यूटी कर रहे एक डाॅ. खुद अनिद्रा की समस्या से पीड़ित हो गए थे। उनमें पहले ऐसी कोई दिक्कत नहीं थी। उन्होंने बताया कि खुद के संक्रमित होने के साथ परिवार के लोगों में संक्रमण की चिंता सताने लगी थी। इससे नींद नहीं आ रही थी। फिर मैने खुद काउंसिलिंग ली और दवा ली। इसके बाद अब ठीक हूं। उन्होंने बताया कि लगातार एक ही प्रकार के माहौल में रहने से भी ऐसी समस्या बनती है।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के स्टाफ को पहले नहीं थी इस तरह की कोई समस्या
केवल सामान्य लोगों में नहीं बल्कि कोरोना पीड़ित होने के बाद जो लोग अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। उनमें भी तनाव, धड़कन बढ़ने, अनिद्रा की शिकायत आ रही है। पहले उनमें इस तरह की समस्या नहीं रहती थी। इसमें ड्यूटी डॉक्टर्स भी शामिल हैं। कई को दवा भी लेनी पड़ रही है। कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डाॅ. रोशन वर्मा ने बताया कि वार्ड में ऐसे मरीजों की संख्या 25 से 30 फीसदी है।

मानसिक रोग विशेषज्ञ अौर काउंसलर फोन पर बात कर लाेगों को देते हैं सलाह
अस्पताल के कोविड उपचार केंद्र में ऐसे मरीजों व मेडिकल स्टाफ के इलाज के लिए मानसिक रोग विशेषज्ञ व काउंसलर की भी ड्यूटी लगाई गई है। ऐसे मरीज फोन पर बात डाॅक्टर व काउंसलर से बात करते हैं। इसके बाद डाॅक्टर व काउंसलर उनकी काउंसिलिंग करते हैं और जरूरत पड़ने पर दवा भी देते हैं। ड्यूटी स्टाफ में इस तरह की समस्या को कम करने शुरू में ही काउंसिलिंग की जा रही है।

एक्सपर्ट व्यू: रचानात्मक कार्यों में बढ़ाएं रुचि, अपनों से ज्यादा करें बातचीत
अभी मरीज बढ़े हैं, लेकिन इसके कारण भी कई हैं। मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए किसी भी व्यक्ति के लिए अच्छी नींद जरूरी है। इसके लिए एक नियमित दिनचर्या बनानी चाहिए। निगेटिव न्यूज देखने व सुनने से बचें, रचनात्मक कार्यों में रुचि बढ़ाएं। टीवी व इलेक्ट्रानिक सामान से दूरी बनाकर अपनों से बातचीत करें। इसमें व्यायाम व योग से काफी फायदा होता है। दिक्कत ज्यादा बढ़े तो डाॅक्टर की सलाह लें। -डाॅ. संदीप पी, मानसिक रोग विशेषज्ञ, मेडिकल काॅलेज



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eN4k07

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages