�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, July 23, 2020

5 साल में 5 बार इकरारनामा, न पैसे लौटाए न मकान दिलाया

चार वर्ष पहले मकान दिलाने का झांसा देकर 10 लाख 30 हजार रुपए की ठगी के आरोप में नंगल पुलिस ने धारा 420 और धारा 406 के तहत केस दर्ज किया है। पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर में शलिंदर सिंह वासी बीबीएमबी कॉलोनी नंगल ने बयान दिया है कि वह बीबीएमबी का कर्मचारी है। 2014 में रिश्तेदार राज के द्वारा राज कुमार वासी नंगल से संपर्क हुआ।

राज कुमार ने 13 लाख में मकान दिलाने की पेशकश की तो वह तैयार हो गया। राज कुमार ने बतौर बयाना 10 लाख 30 हजार रुपए मांगे। उसके पास 5 लाख 30 हजार रुपए थे जो किस्तों में अपने रिश्तेदार राज की हाजिरी में आरोपी राज कुमार को दे दिए। बाकी पांच लाख रुपए का राज कुमार ने लोन करवा दिया और लोन के 5 लाख रुपए भी उसे दे दिए।

बयाने की रकम देने के बाद 2015 में बयाना हो गया जो राज कुमार ने अपने पास रख लिया। जब राज कुमार से बयाने की कॉपी मांगी तो वह कहने लगा कॉपी गुम हो गई है। उसने दोबारा 7 अप्रैल 2016 के बयाना लिख दिया। इस पर 31 मई 2016 को रजिस्ट्री कराने का समय तय हुआ। तय तारीख पर राज कुमार ने रजिस्ट्री नहीं करवाई।
शलिंदर ने बताया कि इस पर उसने मुझे साढे चार मरले का सिंगल स्टोरी मकान पुराने गुरुद्वारा के पास दिलाने की ऑफर रखी, जिसकी कीमत 17 लाख बताई। फिर दूसरे मकान का बयाना 7 दिसंबर 2016 को लिखा और रजिस्ट्री की तारीख 31 मार्च 2017 को कराने का इकरारनामा किया। लेकिन राज कुमार दूसरे मकान की रजिस्ट्री भी नहीं करवा पाया और तारीख आगे बढ़ाता रहा।

मकान दिलाया नहीं, पैसे लौटाने का समय लेता रहा

पीड़ित शलिंदर ने बताया कि 6 मार्च 2019 को राज कुमार ने इकरारनामा किया कि वह 30 अप्रैल 2019 से पहले जो मकान दिखाया है उसकी रजिस्ट्री करवा देगा। अगर वह नहीं करवा सका तो 20 लाख रुपए देगा। लेकिन यह तारीख भी निकल गई क्योंकि राज कुमार के पास कोई मकान नहीं था। आखिर उसने 10 जून 2019 को इकरारनामा किया कि वह 10 सितंबर 2019 को 12 लाख रुपए वापस कर देगा।

अगर ऐसा नही हुआ तो 20 लाख रुपए देगा। ये वादा भी पूरा न होने पर उसने नंगल थाने में शिकायत कर दी। शलिंदर सिंह ने बताया कि गणमान्य लोगों ने 30 अक्तूबर 2019 को उसके और राज कुमार के बीच साढे आठ लाख रुपए में समझौता करवा दिया। राज कुमार ने 10 नवंबर 2019 को एक लाख रुपए देने और बाकी साढ़े 7 लाख रुपए बाद में देने का वायदा किया पर न पैसे दिए और न ही मकान लेकर दिया। शलिंदर सिंह ने पुलिस से कहा कि उसे उसके 10 लाख 30 हजार रुपए दिलाएं जाए।

जमा पूंजी भी चली गई, लोन भी चढ़ा, मकान नहीं मिला
शलिंदर सिंह ने कहा कि मकान के चक्कर में उसकी जमा पूंजी भी ठग ली और उसके सिर पर पांच लाख रुपए का कर्जा भी चढ़ गया। 9 दिसंबर 2019 को उसकी बेटी की शादी थी। उस समय पैसे की बहुत जरूरत थी। शलिंदर सिंह ने पुलिस से मांग की उसके पैसे दिलाए जाएं और राज कुमार के खिलाफ कार्रवाई की जाए। एएसआई बलवीर सिंह ने कहा उन्होंने मामला दर्ज कर लिया है। आरोपियों को पकड़ने के लिए कोशिश जारी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hzg9J5

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages