�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, July 18, 2020

7 साल पहले जहां प्रेमिका के पति का कत्ल किया, वहीं मिला हत्यारे का शव

नंदनपुर रोड पर न्यू ज्वाला नगर में शुक्रवार रात मिले शव की पुलिस ने शनिवार को पहचान कर ली। मृतक शिव नगर में रहने वाला मनीष कुमार पुत्र सुभाष चंद्र था। थाना-1 के एसएचओ राजेश कुमार ने बताया कि सुभाष चंद्र के मुताबिक मनीष हत्या के मामले में 25 जून को पैरोल पर आया था और 29 जुलाई को वापस जेल जाना था।

कंबल और कपड़े फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे गए

शुक्रवार को मनीष बिना बताए घर से निकला पर वापस नहीं आया। पुलिस को क्राइम सीन से कोई पुख्ता सबूत नहीं मिला। जिस कंबल में मनीष का शव लपेट कर फेंका गया, वह कंबल और मनीष के कपड़े फॉरेंसिक जांच के लिए भेज कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए। शनिवार को पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर लिया। उधर पता लगा है कि पुलिस ने शनिवार देर शाम 4 युवकों को राउंडअप किया है। उनके पास टाटा ऐस टैंपो भी है।

कुलदीप हत्याकांड का मुख्यारोपी था युवक

थाना-1 के एसएचओ राजेश कुमार ने बताया कि मनीष 2013 में हुए कुलदीप हत्याकांड का मुख्य आरोपी था। उसी साल 13 अगस्त को सोनिया नाम की युवती के साथ मिल उसके पति पर तेजधार हथियार से 13 वार किए और मरा समझ ज्वाला नगर में पार्क के पास फेंक दिया। वहां से कुलदीप के पिता निकले तो उन्होंने बेटे को खून से लथपथ देख सत्यम अस्पताल में भर्ती करवाया था, जहां 15 अगस्त 2013 को उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने कुलदीप की पत्नी सोनिया, मनीष और उसके दोस्त मास्टर कॉलोनी के रहने वाले हरमिंदर सिंह को आरोपी पाया था। कुलदीप के पिता ने बयान दिए थे कि सोनिया और मनीष में अफेयर है। इसी कारण उनके बेटे का बेरहमी से कत्ल किया गया।

हत्या के मामले में पैरोल पर आया था मनीष
जिक्रयोग है कि ज्वाला नगर में शुक्रवार रात 10:15 बजे तेज रफ्तार टाटा एेस टेंपो में किसी ने कंबल में लपेटकर व्यक्ति का शव फेंक दिया था। मोहल्ले में सैर कर रहे जावेद और सहज ने सबसे पहले देखा और टार्च की रोशनी में कंबल से व्यक्ति का हाथ निकला हुआ दिखाई दिया था। उन्होंने कंबल हटाया तो उसमें खून से लथपथ शव पड़ा था, जिस पर तेजधार हथियारों से करीब 13 वार किए गए थे।

उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी। पुलिस को मौके से कोई खास सबूत नहीं मिला था लेकिन मनीष के घर वालों ने बताया कि वह बिना बताए शुक्रवार को घर से गया था लेकिन वापस नहीं आया था। इसके बाद शव की शिनाख्त मनीष कुमार पुत्र सुभाष के रूप में हुई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hhyaLU

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages