�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Tuesday, August 25, 2020

ईएसआई में सिविल के मरीज बढ़े, सुविधाएं नहीं इमरजेंसी में सुरक्षा नहीं, बिजली के लगते हैं कट

कोरोनावायरस के चलते सिविल अस्पताल में अन्य बीमारियों के आने वाले मरीजों को इलाज के लिए शहीद उधम सिंह नगर में बने ईएसआई अस्पताल में अस्थाई तौर पर शिफ्ट किया गया है। लेकिन 4 महीने बाद भी साधारण बीमारी का इलाज करवाने आ रहे मरीजों को ईएसआई अस्पताल में दर-दर भटकना पड़ रहा है। हालात ये हैं कि ईएसआई अस्पताल में दाखिल हो चुके मरीजों पर सरेआम हमले हो रहे हैं।

इसका बड़ा और प्रमुख कारण अस्पताल में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध न होना है। वहीं बिजली की समस्या तो ईएसआई में काफी समय से चली आ रही है। यहां तक कि अस्पताल की एमएस डॉ. लवलीन गर्ग ने अस्पताल में डॉक्टरों को एसी बंद करने के निर्देश दिए हैं, ताकि मरीजों के इलाज के लिए जरूरी मशीनों को चलाया जा सके।
वहीं ईएसआई अस्पताल और सिविल अस्पताल की मेडिकल सुपरिंटेंडेंट में भी आपसी तालमेल की कमी साफ देखने को मिल रही है। अस्पताल में ड्यूटी कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि अगर अस्पताल में किसी कमी को लेकर अफसरों को कहते हैं तो वह समस्या का हल करने के लिए एक-दूसरे से बात करने के लिए कहते रहते हैं।

मरीजों पर सरेआम हमले हो रहे, अस्पताल में सुरक्षा गार्ड तक तैनात नहीं, रोज काटी जा रही 20 एमएलआर

अस्पताल में बैठे मरीज और डॉक्टर पर हो रहे हमले- इस समय में ईएसआई अस्पताल में नाइट शिफ्ट में काम करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि पिछले बीते 5 दिनों में ईएसआई अस्पताल में ड्यूटी करने पर डर सताता रहता है कि पता नहीं कौन किस समय आकर उनपर हमला कर दे। इसी तरह की घटना शनिवार और रविवार को भी ईएसआई अस्पताल में देखने को मिली थी।

सिविल अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड को जब से ईएसआई अस्पताल में शिफ्ट किया गया है तब से ही ईएसआई अस्पताल में मारपीट और झगड़ों के मामलों में पुलिस रिपोर्ट करवाने से पहले कई मरीज डॉक्टर से एमएलआर बनवाने के लिए आते हैं। हालांकि इसी दौरान दोनों पार्टियों में मारपीट होती है, लेकिन इसे रोकने के लिए अस्पताल में सुरक्षा कर्मी का कोई इंतजाम नहीं है। इसके अलावा अस्पताल में इमरजेंसी परिसर में कोई सीसीटीवी कैमरा तक नहीं है। बता दें अस्पताल में रोजाना 20 से अधिक मामलों में एमएलआर काटी जा रही है।

सराहनीय... एमएस लवलीन गर्ग ने मशीनों के सही संचालन के लिए डॉक्टरों के एसी बंद कराए

ईएसआई अस्पताल में एक समय में 300 से अधिक मरीजों को दाखिल करने की क्षमता है, लेकिन अस्पताल में अभी 70 के करीब बेडों पर सिविल और ईएसआई के मरीजों को दाखिल हैं। बिजली समस्या ईएसआई मेें कई वर्षों पुरानी है। मौजूदा हालातों की बात करें तो अस्पताल की एमएस डॉ. लवलीन गर्ग ने अस्पताल में डॉक्टरों को एसी बंद करने के निर्देश तक दे दिए हैं, ताकि मरीजों के इलाज के लिए जरूरी मशीनों को चलाया जा सके। इसका सबसे बड़ा कारण है अस्पताल में बिजली की तारें पुरानी होना है, जो लोड सहन नहीं कर पाती, जिस कारण अस्पताल के सबस्टेशन में आग भी लग चुकी है।

हमने पुलिस कमिश्नर को सिक्योरिटी के लिए लिखा है : डॉ. मांगट
सिविल अस्पताल की मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. मनदीप कौर मांगट का कहना है कि ईएसआई अस्पताल में सिक्योरिटी मुहैया करवाने के लिए पुलिस कमिश्नर को लिखा दिया गया है। सीपी ने जल्द अस्पताल में सुरक्षा मुहैया करवाने के लिए आश्वासन दिया है।
जेनरेटर के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा है : डॉ. गर्ग
ईएसआई अस्पताल की मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. लवलीन गर्ग का कहना है कि ईएसआई अस्पताल में बिजली की समस्या काफी पुरानी जो उनके आने से पहले से चली आ रही है। लेकिन अस्थाई तौर पर अभी अस्पताल में जेनरेटर की व्यवस्था के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Civil patients increased in ESI, no facilities, no security in emergency, electricity gets cut


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34yMWKM

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages