�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, September 19, 2020

मरीजों पर डेंगू और कोरोना का एक साथ अटैक, अब तक 10 मामले, कोविड से 14 मौतें; 413 नए केस

एक ओर जहां कोविड-19 के जिले में अब तक 16 हजार पॉजिटिव केस का आंकड़ा पार हो चुका है। वहीं, अब एक नया संकट भी सामने आ रहा है। इसमें एक ही मरीज कोविड-19 पॉजिटिव के साथ-साथ डेंगू से भी पीड़ित होने लगे हैं। ऐसे मरीजों का इलाज करने के लिए डॉक्टर्स के सामने एक नई चुनौती आ रही है। हालांकि डॉक्टर्स के मुताबिक इन केस में बहुत ज्यादा गंभीर मरीज नहीं आ रहे। लेकिन आने वाले समय में स्थिति चिंताजनक हो सकती है। क्योंकि दोनों ही बीमारियों का इलाज अलग तरीके से होता है।

बाहर मच्छर पालने का इंतजाम

प्राइवेट हॉस्पिटल्स में कुछ दिनों में 8-10 मरीज ऐसे आ चुके हैं। जो कोविड-19 पॉजिटिव और डेंगू पॉजिटिव भी हैं। ऐसे में चिंता बढ़ती जा रही है कि अगर इस तरह के मरीजों की गिनती में इजाफा हुआ तो इनका इलाज करने में भी उतनी ही चुनौतियां भी बढ़ती जाएंगी। जिससे की हॉस्पिटल्स में भी बोझ बढ़ेगा और देरी से पहुंचने पर मरीज की जान को भी उतना ही खतरा भी रहेगा।

वहीं, शनिवार को जिले में 413 पॉजिटिव केस पाए गए। इसमें 347 संक्रमित लुधियाना के और 66 दूसरे जिलों व राज्यों के रहे। वहीं, 14 लोगों की मौत हुई। इसमें 12 संक्रमित मरीज लुधियाना से संबंधित हैं। सिर्फ तीन दिनों में ही जिले के 1143 लोग संक्रमित हो गए हैं।

दिक्कत : कोविड में खून पतला करने की दवा तो डेंगू में ऐसा न करने से बढ़ी चिंता

डीएमसी हॉस्पिटल के डॉ. राजेश महाजन ने बताया कि हमारे पास ऐसे मरीज आ रहे हैं, जिनमें डेंगू और कोविड-19 दोनों ही पॉजिटिव पाए गए हैं। अब तक ऐसे 3-4 मरीज आ चुके हैं। हालांकि अभी तक हमारे पास बहुत गंभीर मरीज नहीं आए हैं। लेकिन आने वाले समय में चुनौती बढ़ सकती है। कोविड में खून पतला करने वाली दवाई देनी होती है और डेंगू में खून पतला करने की दवाई नहीं दी जा सकती। डेंगू और कोविड-19 में तेज बुखार होता है ऐसे में फर्क करना मुश्किल है। मच्छरों से होने वाली तीन बीमारियां डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया खतरनाक हैं।

टेस्ट न कराना ही मुख्य कारण

सीएमसी के इंटरनल मेडिसिन डिपार्टमेंट हेड डॉ. नवजोत सिंह ने बताया कि एक हफ्ते में हमारे पास ऐसे 2-3 केस आ चुके हैं। इसका मुख्य कारण ये है कि लोगों द्वारा कोविड-19 का टेस्ट नहीं कराया जा रहा। कई स्टडी बताती हैं कि जो मरीज पहले कोविड-19 पॉजिटिव रहा है वो आरटी-पीसीआर में 60 दिनों तक भी पॉजिटिव आ सकता है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वो व्यक्ति कैरियर है। कोविड पॉजिटिव आने पर डेड सैल और जिंदा सेल दोनों ही शरीर में मौजूद रहते हैं। जब तक कि वो सेल पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाते तो रिपोर्ट पॉजिटिव आ सकती है। ऐसे में अगर कोई मरीज आज डेंगू और कोविड पॉजिटिव है तो उस मरीज को कोविड-19 का भी फ्रेश केस लेकर ही इलाज करना होता है।

एहतियात रखने की जरूरत

एसपीएस हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. राजीव कुंद्रा ने बताया कि हमारे पास एक ही मरीज में डेंगू व कोविड-19 पॉजिटिव के केस आए हैं। लेकिन अभी बहुत गंभीर मरीज नहीं आए हैं। ऐसी स्थिति में लोगों को ज्यादा एहतियात रखने की जरूरत है।

डाॅक्टर्स की सलाह : लोगों को चाहिए कि अगर वो अपना आरटी-पीसीआर टेस्ट नहीं करवाना चाहते तो एंटी-बॉडी टेस्ट तो जरूर करवाएं। इससे न सिर्फ बीमारी के बारे में जल्द पता चलेगा बल्कि उनके घरवाले और रिश्तेदार भी स्वस्थ रह सकेंगे और कोरोना को बढ़ने से रोका भी जा सकेगा।

कोविड हल्के और डेंगू तेज बुखार से होता शुरू: डॉ. राजेश महाजन ने बताया कि कोविड में हल्के बुखार से शुरुआत होती है। उसके बाद तेज, खांसी या गला खराब होता है। डेंगू में एकदम से तेज बुखार, शरीर में दर्द होता है। डॉ. नवजोत के मुताबिक लोग बुखार होने पर डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। ताकि डॉक्टर देख सकें कि उनका किस तरह से इलाज किया जा सकता है।

वेंटिलेटर पर 31 मरीज

जिले में नए आए 413 पॉजिटिव केस में 347 लुधियाना से संबंधित हैं। अब तक जिले में 16051 पॉजिटिव केस आ चुके हैं और 659 मरीजों की मौत हो चुकी है। वहीं, अब 1832 एक्टिव केस हैं। इनमें से 31 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। अन्य जिलों व राज्यों से अब तक 1829 पॉजिटिव केस आ चुके हैं। 235 एक्टिव केस हैं और 189 की मौत हो चुकी है। शनिवार को 5086 सैंपल्स लिए गए। इसमें से 3920 सैंपल्स रैपिड एंटी जैन टेस्ट रहे। 1146 सैंपल्स आरटी-पीसीआर के लिए भेजे गए। वहीं, ट्रूनेट पर 20 सैंपल्स की जांच हुई। अब तक 223300 सैंपल्स जिले में लिए जा चुके हैं। जिसमें से 221696 सैंपल्स की रिपोर्ट हासिल हो चुकी है। 203816 सैंपल्स की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। 1604 सैंपल्स की रिपोर्ट आना बाकी है।

16 हेल्थ केयर वर्कर, 2 पुलिस मुलाजिम संक्रमित

शनिवार को पॉजिटिव आए केस में लुधियाना से संबंधित केस में 16 हेल्थ केयर वर्कर और 2 पुलिस मुलाजिमों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। 1 गर्भवती महिला को भी संक्रमण हुआ। पॉजिटिव मरीजों के संपर्क के 36 मरीज, ओपीडी के 72 मरीज, इनफ्लूएंजा लाइक इलनेस के 139 केस, एसएआरआई के 2 मरीज पॉजिटिव रहे हैं। शनिवार को 92 रैपिड रिस्पाॅन्स टीमों ने 396 लोगों की स्क्रीनिंग की। जिसमें से 335 को होम क्वारेंटाइन किया गया। अब जिले में 4483 एक्टिव होम क्वारेंटाइन केस हैं।

लुधियाना के 6 पुरुषों और 6 महिलाओं की मौत

शनिवार को जिले के 12 मरीजों की मौत हुई। इसमें 6 पुरुष और 6 महिलाएं रहीं। इसमें मॉडल ग्राम के पुरुष(55), अयाली कलां से महिला(65), ग्यासपुरा से पुरुष(49), अर्जुन नगर से पुरुष(50), इस्लाम गंज से महिला(70), अग्र नगर से महिला(82), संधू नगर से महिला(65), गुरु नानक नगर से पुरुष(65), अंबेडकर नगर से पुरुष(62), गुरु अर्जन नगर से पुरुष(32), हैबोवाल कलां से महिला(65) और नंदपुर गांव से महिला(55) की मौत हुई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सिविल अस्पताल:अंदर मच्छरदानी


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2RIOgmM

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages