�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Tuesday, September 22, 2020

सड़क 12% से ज्यादा खराब तो ठेकेदार को ब्लैकलिस्ट करने का नियम, मगर 10 कॉन्ट्रेक्टरों को नोटिस तक नहीं भेजा

(दिनेश वर्मा) शहर में साल 2019-20 के दौरान निगम के बीएंडआर ब्रांच ने टेंडर लगा सीमेंट वाली आरएमसी, लुक और इंटरलॉकिंग टाइलों वाली सड़कों के काम के वर्कऑर्डर जारी किए। इनमें से करीब 22 कामों की निगम की क्वालिटी कंट्रोल टीम ने जांच की तो खुलासा हुआ कि 11 कामों में क्वालिटी सही नहीं मिली। इन 11 कामों में से 7 काम लुक वाली सड़कों के थे, जिनके सैंपल की जांच में 25-40% तक कम मैटीरियल इस्तेमाल होने की बात सामने आई।

गौर हो कि ये 11 काम एसके कंस्ट्रक्शन, सीवा कंस्ट्रक्शन, एगलो बिल्डर्स, दास बिल्डर्स, एनकेसी कंट्रक्शंस, राजेश कुमार सूद, वंश, अपेक्स कंस्ट्रक्शन अपेक्स डेवलपर्स और अपेक्स बिल्डर्स के पास थे। इनमें से 3 ठेकेदारों के पास अब भी साल 2019-20 के पेंडिंग और कुछ काम अधूरे चल रहे हैं। वहीं, कुछ नए शुरू होने वाले हैं, जिनके वर्कऑर्डर के मुताबिक रकम करीब 15 करोड़ तक बनती है।

नियमों की बात करें तो सड़काें के मामले में 12% से ज्यादा क्वालिटी खराब या कम मैटीरियल पाया जाता है तो कॉन्ट्रेक्टर को 2 साल के लिए ब्लैकलिस्ट करने और टेंडर अमाउंट की पूरी रिकवरी का प्रावधान है, लेकिन हैरानीजनक है कि निगम ने 11 कामों के सैंपल फेल पाए जाने के बावजूद किसी भी कॉन्ट्रेक्टर को ब्लैकलिस्ट नहीं किया। कार्रवाई के नाम पर नोटिस तक जारी नहीं किए।

इन सड़कों के सैंपल फेल : सबसे खराब क्वालिटी की रोड मोहल्ला गुरु विहार में मिली

निगम की क्वालिटी कंट्रोल टीम ने 7 लुक वाली सड़कों के सैंपल लिए थे। इनमें से 6 सड़कों में क्वालिटी 25 से 40% तक कम पाई गई। नियमों के मुताबिक अगर किसी काम की क्वालिटी 12% से अधिक क्वालिटी कम पाई जाती है तो उसे हर हाल में दो साल के लिए ब्लैकलिस्ट करने का प्रावधान है। निगम ने आज तक ऐसा नहीं किया।

वॉर्ड 76 के बाल सिंह नगर की सड़क में 25%, वॉर्ड 43 हिम्मत सिंह नगर में 25%, वॉर्ड 91 चंद्र नगर में 35%, वॉर्ड 5 आमंत्रण कॉलोनी में 11%, वॉर्ड 26 अशोक नगर में 20% और सबसे खराब क्वालिटी की सड़क वॉर्ड 6 मोहल्ला गुरु विहार में 40% कम क्वालिटी की है। वहीं, वॉर्ड 37 में माता रानी रोड भी तय मानकों पर खरी नहीं उतरी। इसी तरह सीमेंट वाली सड़कें, जिसे आरएमसी कहा जाता है, उसमें तय मानकों के अनुसार अगर मोटाई और क्वालिटी सही नहीं पाई जाती तो कॉन्ट्रेक्टर को ब्लैकलिस्ट करने का प्रावधान है।

सड़कों की क्वालिटी के लिए ये हैं नियम

  • 4% तक क्वालिटी कम है तो कॉन्ट्रेक्टर से नुकसान की भरपाई की जाती है।
  • 4 से 8% तक कम क्वालिटी पर नुकसान की डेढ़ गुना भरपाई और 6 माह के लिए ब्लैकलिस्ट किया जाता है।
  • 8 से 12% तक कम क्वालिटी पर नुकसान की दोगुना भरपाई और 1 साल के लिए ब्लैकलिस्ट किया जाता है।
  • 12% तक या इससे ज्यादा कम क्वालिटी पर फुल रिकवरी और काम को रिजेक्ट कर 2 साल तक ब्लैकलिस्ट करना होता है।

जानें-किसने क्या कहा

हफ्ते पहले इस मामले में मेमोरंडम दिया था, लेकिन जबाव नहीं मिला। अब पार्षद मेयर से मिलकर हाउस मीटिंग बुलाने की मांग रखेंगे, ताकि मुद्दा हाउस में उठा सकें।

-हरभजन डंग, नेता विपक्ष

जैसे ही रिपोर्ट मेरे पास आएगी, उसमें कितने प्रतिशत पर कैसे कार्रवाई की जानी है, उस हिसाब से संबंधित कॉन्ट्रेक्टरों पर एक्शन लिया जाएगा।

-बलकार सिंह संधू, मेयर

मेरे पास इस मामले को लेकर कोई फाइल नहीं आई है। जैसे ही मेरे पास ऐसा कोई मामला आएगा तो नियमों के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

-प्रदीप सभ्रवाल, निगम कमिश्नर



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
विधायक डाबर के हलके में नई बनी सड़क टूटी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kSgnN9

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages