�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Tuesday, September 8, 2020

टैक्स फ्री और स्टेट के बाहर सेल नहीं करने वालों को भी भेज दिए नोटिस, एईटीसी वन और टू दफ्तर के वित्तीय वर्ष 2013-14 के 1010 असेसमेंट केसों की अप्रूव्ड लिस्ट जारी

एक्साइज व टैक्सेशन विभाग ने असिस्टेंट एक्साइज व टैक्सेशन कमिश्नर वन और टू दफ्तरों के 1010 असेसमेंट केसों की अप्रूव्ड लिस्ट जारी की है। इससे पहले एक्साइज व टैक्सेशन विभाग के अंडर सेक्रेटरी ने वित्त वर्ष 2013-14 से लेकर 2016-17 के केसों की असेसमेंट के लिए मापदंड भी जारी किए थे। दूसरी तरफ जीएसटी प्रैक्टिशनर्स एसोसिएशन के प्रधान एडवोकेट नवीन सहगल व उप-प्रधान विकास खन्ना ने लिस्ट में मापदंडों के उलट टैक्स फ्री, 10 करोड़ ग्राॅस टर्नओवर से कम और स्टेट के बाहर बिना सेल वाले केस भी शामिल किए जाने की बात कही है। यह केस 20 नवंबर 2020 के बाद टाइम बार्ड हो जाएंगे।

टैक्स फ्री कपड़ा कारोबारी को भी थमाया नोटिस
केस स्टडी वन :
एईटीसी वन दफ्तर के एक करियाना कारोबारी को असेसमेंट नोटिस जारी किया गया है, जबकि उसकी ग्रॉस टर्नओवर 10 करोड़ से नीचे है। वहीं उसकी दूसरे राज्य में कोई सेल भी नहीं है।
केस स्टडी टू : एईटीसी टू दफ्तर की तरफ से एक एजेंसी होल्डर को असेसमेंट नोटिस भेजा गया है। टैक्स माहिरों के मुताबिक यह कारोबारी भी असेसमेंट के किसी भी मापदंड के दायरे में नहीं आता।
केस स्टडी थ्री : टैक्स माहिरों के मुताबिक एईटीसी वन दफ्तर के एक कपड़ा कारोबारी को नोटिस भेजा गया है, जबकि कपड़ा वैट में टैक्स फ्री था। वही असेसमेंट के दायरे में नहीं आता फिर भी नोटिस भेजा गया है।

1010 केसों की असेसमेंट के लिए 50 दिन..जो व्यावहारिक नहीं
टैक्स माहिरों के मुताबिक कानून के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2013-14 के असेसमेंट केस 20 नवंबर 2020 के बाद टाइम बार्ड हो जाएंगे। ऐसे में 1010 असेसमेंट केसों का निपटारा करने के लिए विभाग के पास करीब 50 वर्किंग डेज हैं। ऐसे में रोजाना 20 केसों का निपटारा करना व्यावहारिक तौर पर संभव दिखाई नहीं दे रहा।

आनन-फानन में बनाई लिस्ट : नवीन सहगल
जीएसटी प्रैक्टिशनर्स एसोसिएशन के प्रधान एडवोकेट नवीन सहगल और उपप्रधान विकास खन्ना के मुताबिक अप्रूव्ड किए गए असेसमेंट केसों की लिस्ट आनन-फानन में तैयार की गई है। इसमें अधूरा होमवर्क किया गया है। लिस्ट में कई ऐसे केस भी शामिल हैं, जो कि असेसमेंट करने के लिए निर्धारित मापदंडों में आते ही नहीं है। बाकी जीएसटीपीए असेसमेंट केसों की लिस्ट को देख रही है, जो केस मापदंडों के तहत नहीं आते, उन्हें असेसमेंट के दायरे से बाहर लाने के लिए उच्चाधिकारियों के ध्यान में लाया जाएगा।
कारोबारी ई-मेल करके बताएं, हल करेंगे: एईटीसी वन
अगर किसी डीलर को असेसमेंट मापदंडों से बाहर जाकर नोटिस जारी होता है तो वह ई-मेल करके बता सकता है। उस केस को हल किया जाएगा। कोरोना के कारण पब्लिक डीलिंग घटाई है। इस दौरान असेसमेंट केसों का निपटारा करने के मामले पर भी उच्चाधिकारी विचार कर रहे हैं। -अमनदीप कौर, (पीसीएस) एईटीसी वन



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Notice sent to those who are not tax-free and not selling outside the state, the approved list of 1010 assessment cases of AETC One and Two office financial year 2013-14 released


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Zjmod3

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages