�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Monday, September 21, 2020

बेगुनाह को गिरफ्तार किया, कोर्ट से रिमांड भी ले लिया; आरोपी को पकड़ा लेने के बाद भी पुलिस बोली- कोर्ट से ही छूटेगा

लुधियाना पुलिस का नया कारनामा देखिए...एक व्यक्ति के सुसाइड नोट में पत्नी के दोस्त सुमित और कुछ रिश्तेदारों को जिम्मेदार ठहराया था। पुलिस ने मरने वाले की सास और पत्नी को पूछताछ के लिए थाने बुला लियाञ पत्नी के साथ उसका छोटा बच्चा था। महिला के पड़ोस में भी एक सुमित रहता है। उसने देखा कि थाने में महिला को काफी समय हो गया।

बच्चे को दूध की जरूरत होगी तो वह दूध लेकर थाने पहुंच गया। वहां पुलिस ने नाम पूछा तो उसने जैसे ही सुमित बताया तो पुलिस ने कहा मिल गया अंदर डालो इसे। वह चिल्लाता रहा कि वह सुमित नहीं है जिसे खोज रहे हैं। परिजनों को भी नहीं मिलने दिया गया। अगले दिन कोर्ट में पेश कर रिमांड भी हासिल कर ली। अब परिजनों ने असली सुमित को पकड़कर सौंप तो पुलिस कह रही है अब कोर्ट से ही छूट पाएगा।

थाने में बच्चे को दूध देने गया पड़ोसी, पुलिस बोली-अंदर डालो इसे

पीड़ित सुमित मिश्रा के भाई प्रकाश मिश्रा ने बताया कि वह हरबंसपुरा में रहता है। उनका भाई सुमित प्राइवेट फैक्टरी में जॉब करता है। कुछ दिन पहले राजेश ने आत्महत्या की थी। सुसाइड नोट में उसकी पत्नी के दोस्त और रिश्तेदारों का नाम था। इसलिए पुलिस ने पत्नी और उसकी सास को थाने में बैठा लिया। दोनों मां बेटी उनके पड़ोसी हैं। उसका भाई सुमित उसके कहने पर ही एक साल के बच्चे के लिए थाने में दूध देने गया।

सुमित नाम सुनते ही पुलिस बोली-सुसाइड नोट में सुमित नाम है लिखा और वो तुम हो। यह कहकर उसे थाने में बैठा लिया। उस दिन उससे मिलने भी नहीं दिया गया। अगले दिन पुलिस ने कोर्ट में पेश करके रिमांड हासिल कर ली। तब तक परिजन थाने पहुंच गए, उन्होंने कहा कि सुमित का कोई कसूर नहीं है उसे छोड़ो। पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने बताया कि थाने से ऐसी गलती कैसे हो गई? जांच करवाई जा रही है।

पहले नहीं बताया वह आरोपी सुमित नहीं है

थाना डिवीजन 3 के एसएचओ सतीश कुमार ने बताया कि उसे पकड़ा था तो उसने नहीं बोला कि वो सुसाइड नोट वाला सुमित नहीं है। कोर्ट में पेश कर दिया है, अब जो होगा कोर्ट से होगा।

मृतक की सास की मदद से आरोपी पकड़ में आया: मृतक की सास ने भी कहा कि वो सुमित और है, वो उसे फोन कर पूछ रहा है कि पुलिस ने उन्हें छोड़ा की नहीं। परिजनों ने फैक्टरी मालिक की मदद से आरोपी की डिटेल निकलवाई और मृतक राकेश की सास की मदद से उसे बहाने से उसे गऊशाला रोड पर बुलाया, जब वो वहां आया तो सुमित के परिजनों असली आरोपी सुमित को काबू कर लिया। जिसके बाद उसे लेकर थाने पहुंच गए। जहां उसने पुलिस के सामने कबूला कि सुसाइड नोट में उसी का नाम और नंबर लिखा है। पुलिस ने उसे भी थाने में बैठा लिया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Arrests innocent, remanded from court; Even after taking the accused, the police bid - will be released from the court


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2ZSu9qT

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages