�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, September 3, 2020

मुझे जहर देकर कमरे में किया बंद, वीडियो देख पड़ोसी ने पहुंचाया अस्पताल, इलाज के दौरान मौत

मरने से 6 घंटे पहले युवक ने लाइव होकर किए खुलासे, कहा उसे मरने के लिए दिया गया जहर, कमरे में बंद कर उसकी मौत का कर रहे है इंतजार। पड़ोसी ने जब उसकी वीडियो देखी तो तुरंत उसके घर पहुंच दरवाजे को खुलवा कर उसे बचाने के लिए पहुंचाया अस्पताल, जहां इलाज के दौरान युवक की मौत हो गई।
युवक परविंदर उर्फ परी 27 पुत्र तारी राम की वीडियो देख हर कोई हैरान रह गया। जिसमें परी आरोप लगा रहा है कि उसे मारने के लिए मीठे पानी में जहर मिला कर दिया गया है। उसकी मौत की साजिश रचने वाले कोई और नहीं बल्कि उसके अपने नजदीकी हैं। उसके बाद उसकी दूसरी वीडियो शुरू हो जाती है जिस में वह दिखा रहा है कि उसे मरने के लिए एक कमरे में बंद किया हुआ है।

ताकि वह इलाज के लिए अस्पताल न पहुंच सके और वह गिलास भी दिखा रहा है जिसमें थोड़ा पानी बचा हुआ है। आखिर में वह बस इतना ही कहता है कि उसके पास अब वक्त कम है जो कुछ भी उसके पास है वह गुरुद्वारे को दे दिया जाए। लड़के की यह वीडियो देख उसका एक करीबी पड़ोसी तुरंत उसके घर पहुंचा धक्के देकर दरवाजा खुलवा कर उसे पहले स्थानीय प्राईवेट अस्पताल लेकर गया उसके बाद उसे इलाज के लिए लुधियाना के एक बड़े अस्पताल ले गया जहां डाक्टरों ने उसकी नाजुक हालत देख उसे दाखिल करने से इंकार कर दिया तो वह दोबारा उसे फिर फिल्लौर के उसी प्राईवेट अस्पताल ले आया जहां उसने बुधवार दोपहर 2 बजे दम तोड़ दिया।

घटना का पता चलते ही वहां पुलिस पहुंच गई और मृतक के मौत के कारणों का पता जानने के लिए उसका पोस्टमार्टम करवा कर शव परिवार वालों के हवाले कर दिया और परिवार वालों ने वीरवार उसका अंतिम संस्कार कर दिया। मृतक के संस्कार के बाद शहर में चर्चा शुरू हो गई एक युवक तड़प कर मर गया उसने मरने से पहले ऑनलाइन होकर आरोपी का नाम भी लिया। उसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस की इस कार्यप्रणाली पर हर कोई सवाल खड़े कर रहा है।

वीडियो में युवक ने जिस व्यक्ति का नाम लिया उसने कहा- हमारी परविंदर के परिवार से बोलचाल नहीं, रंजिशन नाम लिया गया

इस संबंध में जब थाना प्रभारी मुख्तियार सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि घटना का पता चलते ही पुलिस पार्टी मृतक के घर पहुंची थी। परिवार के सभी सदस्यों के अलावा मृतक के अन्य रिश्तेदारों ने भी बताया कि मृतक लड़के को जहर दिया नहीं गया बल्कि उसने खुद आत्महत्या करने के लिए जहर पिया है। मृतक लड़का जिसे अपनी मौत का जिम्मेवार ठहरा रहा है।

जब उक्त व्यक्ति से बात की तो उसने कहा वह उनका रिश्तेदार है परंतु उसका परिवार के साथ बिल्कुल बोलचाल नहीं है। इसी लिए रंजिशन उसका नाम उसके मुंह से निकलवाने के लिए दबाव बनाया जिस से वह फंस सके। फिलहाल पुलिस ने 174 कार्रवाई की है। बाकी की बनती कार्रवाई पोस्टपार्टम रिपोर्ट आने के बाद की जाएगी।

पुलिस की कार्रवाई पर शक, अदालत जाएंगे
शहर के समाजसेवी मुकेश शर्मा, हरजिंदर सिंह, हर्षदीप ने कहा कि मृतक को इंसाफ दिलवाने के लिए हो सका तो नीचे से लेकर ऊपर की अदालत तक जाएंगे। उन्होंने कहा बड़े दुख की बात है एक युवक ऑनलाइन होकर बता रहा है उसे मारने के लिए जहर दिया गया है। उन्होंने कहा पुलिस ने थोड़े ही समय में खुद ही यह साबित कर दिया कि मृतक को जहर दिया नहीं गया बल्कि उसने खुद पिया है।

उन्होंने कहा अगर मृतक ने खुद भी जहर पिया है आखिरकार उन लोगों ने उसे मरने के लिए मजबूर किया ही होगा। उन्होंने कहा अगर पुलिस ने मृतक द्वारा बताए लोगों के विरूद्ध कार्रवाई नहीं की तो वह यह मामला अदालत में लेकर जाएंगे और उसे इंसाफ दिलवा कर रहेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Close me in the room after poisoning me, neighbor rushed to hospital after watching video, died during treatment


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hX3bp1

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages