�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Monday, October 19, 2020

25 प्रतिशत विद्यार्थी पहुंचे स्कूल, थर्मल स्क्रीनिंग के बाद हुआ प्रवेश, व्यवस्था देखने अभिभावक भी आए स्कूल

सात माह बाद अनलॉक हुए स्कूलों में छात्रों की संख्या काफी कम देखने को मिली है हालांकि पंजाब सरकार ने अभी 9वीं से 12वीं कक्षा तक के बच्चों को ही 3 घंटे के लिए स्कूल आने की अनुमति दी है। जिले के लॉकडाउन हटाए जाने के बाद सोमवार को खुले जिले के सरकारी स्कूलों में 20 प्रतिशत जबकि प्राइवेट स्कूलों में विद्यार्थियों की आमद 25 प्रतिशत रही। हालांकि स्कूल प्रबंधकों की ओर से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ हर तरह के नियमों की पालना की जा रही है। बच्चों का तापमान चेक करके उन्हें स्कूल में प्रवेश करवाया जा रहा है। पहले दिन संख्या कम होने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग की किसी तरह की समस्या नहीं आई।

स्कूल प्रबंधकों को उम्मीद है कि धीरे-धीरे पूरी स्थिति ट्रैक पर आ जाएगी और नवंबर माह की शुरुआत तक बच्चे बड़ी संख्या में स्कूल आने लगेेंगे। अगर जरूरत पड़ी तो कक्षाओं को दो शिफ्टों में चलाया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी मलकीत सिंह ने बताया कि पहले दिन बच्चों की संख्या कम होने पर कक्षाएं एक शिफ्ट में ही लगी है। स्कूलों पर अचानक चेकिंग के लिए डिप्टी डीईओ के अलावा 12 टीमें बनाई गई थी। प्रत्येक ब्लाक में प्रिंसिपल स्तर के अधिकारी ने जाकर स्कूलों में चेकिंग की है। हर जगह पर सरकार के नियमों की पालना की गई है। आगामी समय में भी नियमों की पालना यकीनी बनाने के लिए अचानक चेकिंग जारी रहेगी। वहीं कुछ स्कूलों में किए गए प्रबंधों को देखने के लिए अभिभावक भी स्कूल पहुंचे।

स्पिरिंग डेल पब्लिक स्कूल के डॉयरेक्टर जीवन गर्ग का कहना है कि पहले दिन 9वीं और 10वीं कक्षा में 19 छात्र ही पहुंचे हैं। अभी बच्चों की संख्या काफी कम है। उम्मीद है कि अगले एक सप्ताह में कक्षाओं में छात्रों की संख्या पूरी हो जाएगी। कैंब्रिज इंटरनेशनल स्कूल के चेयरमैन शिव आर्य का कहना है कि अभी अभिभावकों ने अपनी सहमति नहीं भेजी है। अभिभावकों की सहमति के बाद ही छात्रों को कक्षा में आने की अनुमति दी जाएगी। पहले दिन कोई छात्र स्कूल नहीं पहुंचा है।

ऑनलाइन से सिलेबस काफी पिछड़ा
9वीं कक्षा के हर्षप्रीत कौर का कहना है कि घर पर रहने के कारण लेजी हो गए थे। इसके अलावा ऑनलाइन से सिलेबस काफी पिछड़ चुका है क्योंकि ऑनलाइन में शिक्षा की स्पीड काफी स्लो थी। अब स्कूल खुलने से सिलेबस अच्छे से कवर हो सकेगा। उम्मीद है कि स्कूलों में शिक्षा के साथ-साथ खेलों आदि की गतिविधि भी शुरू हो जाएगी, जिससे शारीरिक एक्टीविटी भी होने लगेगी जिससे शरीर भी तंदरुस्त रहेगा।

ऑनलाइन पढ़ाई से कक्षा में बेहतर पढ़ाई : कशीश
स्पिरिंग डेल पब्लिक स्कूल की 10वीं कक्षा की छात्रा कशिश ने कहा कि ऑनलाइन पढ़ाई की बजाए कक्षा में बेहतर ढंग से की जा सकती है। नेट की समस्या के चलते ऑनलाइन पढ़ाई में फोक्स नहीं बनता था। स्कूल आकर अच्छा महसूस कर रही है। कक्षाएं रेगुलर होने की उम्मीद है।

कोरोना ने छुटि्टयों का मजा किया : आकाशदीप
10वीं के छात्र आकाशदीप सिंह ने कहा कि पहले छुट्टियों का मजा होता था मगर कोरोना नेे घर में रहने का मजा ही खत्म कर दिया है। कक्षा में बैठ कर पढ़ने का मजा ही अलग है। परिजन स्कूल आने पर चिंतित थे। उन्हें बार- बार सावधानी के लिए समझाया गया है जिसका वह ख्याल रख रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
25 percent students reached school, admission after thermal screening, parents came to see the system


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3lWkcBc

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages