�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, October 17, 2020

लाॅकडाउन में लुधियाना से गए दोस्तों ने बताई लोन कंपनी में करोड़ों के सोने की बात, उसी दिन से बना प्लान, डेढ़ माह बाद दिया अंजाम

दुगरी रोड स्थित मुथूट फाइनांस कंपनी में 15 करोड़ का सोना और कैश की डकैती करने वाले आरोपियों ने लाॅकडाउन में ही मुथूट में डकैती का प्लान बना लिया था। जिसका क्लू इन्हीं के दोस्तों ने उन्हें लुधियाना से लौटने के बाद दिया। लिहाजा एक महीने तक प्लानिंग करने के डेढ़ महीना बाद सारी घटना को अंजाम दिया गया। वहीं, हथियार मंगवाने से लेकर वारदात वाली जगह की हर डिटेल डकैतों के पास पहुंच गई। उधर, शनिवार की दोपहर को रोशन कुमार, सौरव कुमार और सुजीत को पुलिस द्वारा कोर्ट में पेश किया गया। जहां बाकियों की गिरफ्तारी, प्लानिंग की स्टडी और बाकी की डिटेल्स जुटाने का हवाला देकर रिमांड मांगा गया। इसके बाद तीनों आरोपियों का चार दिन का पुलिस रिमांड मिला।

दोस्तों की साधारण बात को बनाया मकसद

सूत्र बताते हैं कि पुलिस इंवेस्टिगेशन में पता चला कि डकैतों के कुछ दोस्त, जोकि उन्हीं के गांव के हैं, दुगरी रोड और गिल रोड पर फैक्टरी व दुकानों पर काम करते थे। लाॅकडाउन के दौरान वो सभी बिहार लौट गए। जहां आरोपियों से मिले और हालातों के बारे में बताया। इसके साथ ही ये भी बताया कि लुधियाना में बहुत ज्यादा पैसा है और लोग सोना रखकर पैसे लेते हैं। उनकी साधारण बात को डकैतों ने अपना मकसद बना लिया। जुलाई से अगस्त तक इसकी प्लानिंग की गई। जिसमें उन्होंने मुथूट फाइनांस के दोनों दफ्तरों की तस्वीरें भी जुटाईं। गिल रोड पर पहले डकैती हो चुकी है, जिसे देखते हुए दुगरी वाले दफ्तर को टारगेट किया गया। सितंबर को लुटेरे चंडीगढ़ पहुंच गए, जहां उन्होंने गांव में रहने वाले एक दोस्त का आईडी प्रूफ दिया, जिसके बारे में उसे पता भी नहीं था। उक्त आईडी पर कमरा लेकर वो वहां रहे। वहीं से लुधियाना आकर रेकी की। इस दौरान पूरी दुगरी रोड और मुथूट फाइनांस की तस्वीरें खींची, जिसे प्लानिंग में इस्तेमाल किया गया।

उड़ीसा और दिल्ली में भी कर चुके वारदातें : जांच में पता चला कि डकैतों ने तीन मार्च को बिहार के बैंक में जो डकैती की थी, उसी पैसे से अपने जानकार से यूपी से ओरिजनल असलहे की फर्स्ट काॅपी खरीद कर लाया। उक्त असलहे 50 से 55 हजार के बीच में खरीदे थे। इसके साथ ही 60 से ज्यादा राउंड भी खरीदे। जिन बाइकस का इस्तेमाल किया वो बाइक पहले की डकैतियों में भी इस्तेमाल किए गए थे, जोकि चोरी के बताए जा रहे हैं। इसके अलावा आरोपियों ने उड़ीसा और दिल्ली में भी कई वारदातें की हैं। जिसके बारे में पुलिस को पता चल रहा है।

बिहार और चंडीगढ़ पहुंची टीमें : बाकी डकैतों की तलाश में पुलिस की आठ टीमें काम कर रहीं है। उन्हें बिहार और चंडीगढ़ के लिए रवाना कर दिया गया है। क्योंकि उक्त डकैतों के रिश्तेदार और बाकी के लोग भी वहीं है। जिनसे काफी कुछ इस मामले में पुलिस जुटाएगी। डकैतों से जाॅइंट सीपी भागीरथ मीणा, डीसीपी सिमरतपाल सिंह ढींडसा और एडीसीपी समीर वर्मा की सुपविजन में पूछताछ चल रही है।

रास्तों ने उलझाया, वरना भाग जाते डकैत
पड़ताल में ये भी पता चला कि रास्तों की डायरेक्शन को लेकर डकैत कंफ्यूज हो गए थे। उनकी प्लानिंग में बाइक का मुंह चौकी की तरफ करना था, लेकिन एक डकैतों ने गलती से बाइक दुगरी रोड की तरफ कर दिया, जिसके बाद हड़बड़ाहट में वो उधर की तरफ से भाग निकले, जहां पहले से ही पुलिस ने जाम लगवाया था।

ये है मामला : शुक्रवार की सुबह मुत्थुट फाइनांस कंपनी के वर्करों को बंधक बनाकर बिहार से आए 6 लुटेरों ने 15 करोड़ के जेवरात और 2.57 लाख रुपए की डकैती कर ली। लेकिन स्टाफ की अलर्टनेस और लोगों की मदद से पुलिस ने तीन डकैतों को पकड़ लिया। जबकि तीन डकैत फरार हो गए।

डकैतों के दोस्त लुधियाना में काम कर चुके हैं, हो सकता है, उनसे कुछ पता चला हो। फिलहाल इनसे पूछताछ जारी है। अभी कई और बड़े खुलासे होंगे, हमारी टीमें अलग-अलग स्टेट्स में इंवेस्टिगेशन में लगी है। -राकेश अग्रवाल, पुलिस कमिश्नर



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3lXSd44

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages