�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Sunday, November 22, 2020

नई पीढ़ी को साहित्य से जोड़ने के लिए दीवाना गांव के युवकों ने बनाईं 3 ओपन लाइब्रेरियां

(चेतन शर्मा) नई पीढ़ी को साहित्य के साथ जोड़ने के लिए गांव दीवाना के युवकों ने गांव में तीन ओपन लाइब्रेरी बनाई हैं। 5 हजार की आबादी वाले गांव दीवाना की 3 सांझी जगह पर एक पिलर पर एक बॉक्स लगाकर उसमें किताबें रखी हैं। जिससे कोई भी अपनी पसंद के अनुसार किताब ले जा सकता है। गांव दीवाना की शहीद करतार सिंह सराभा लाइब्रेरी के प्रधान रंजीत सिंह पूर्व सरपंच, सचिव बलजीत सिंह, सीनियर मेंबर वरिंदर दीवाना ने बताया कि 1 साल पहले शुरू की गई प्रदेश की पहली ओपन लाइब्रेरी के कारण गांव में साहित्य पढ़ने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है। इसके साथ ही आसपास के गांवों के पाठक भी लाइब्रेरी के साथ जुड़े हैं। युवकों का मकसद हर हाथ में मोबाइल की जगह पुस्तक थमाना है।

जिससे वह कुछ सीख सकें और अपनी जिंदगी को खूबसूरत बना सकें। उन्होंने बताया कि गांव में साल 2011 से करीब 5000 पुस्तकों वाली एक लाइब्रेरी पंचायत घर में चल रही है। लेकिन वहां पर चुनिंदा लोगों को छोड़कर बेहद कम लोग आते थे। क्योंकि मोबाइल के युग में युवकों व आम लोगों में पढ़ने का रुझान बेहद कम है। लाइब्रेरी कमेटी की तरफ से ओपन लाइब्रेरी का फैसला किया गया। जिसमें तीन जगह पर ओपन लाइब्रेरी बनाने का प्रस्ताव पास हुआ। जून 2019 में इसकी शुरुआत की गई। ओपन लाइब्रेरी में आते जाते लोग किताब निकालते हैं और उसे पढ़ते हैं। अब हर महीने 100 से अधिक लोग लाइब्रेरी में आना शुरू हो गए हैं। आसपास के लोग भी लाइब्रेरी से जुड़ गए हैं। ओपन लाइब्रेरी में शहीद भगत सिंह, शहीद करतार सिंह सराभा, शहीद उधम सिंह इसके अलावा सिख पंथ से जुड़े महान नायकों व दुनिया भर के बड़े संघर्ष इन लोगों की किताबें रखी हैं।

पिलर पर एक बॉक्स लगाकर बना दी ओपन लाइब्रेरी
लाइब्रेरी के प्रबंधकों ने बताया कि गांव में सरकारी स्टेडियम के अंदर, सरकारी स्कूल व बस स्टैंड के पास और गांव की मार्केट के बीच तीन मुख्य जगहों का चुनाव किया गया। यहां पर 4 फीट का एक पिल्लर लगाकर उसके ऊपर एक बॉक्स बनाया गया। जिसमें 25 से 50 तक किताबें रखी जा सकती हैं। इस बॉक्स पर लिखा गया है कि जिस व्यक्ति को किताब की जरूरत है वह यहां से किताब ले जा सकता है और इस किताब को वापस रखना उसका फर्ज है।

कुछ श्रेष्ठ लोगों की बातें

  • एक बार तुम पढ़ना सीख लेते हो तो हमेशा के लिए स्वतंत्र हो जाते हो - फ्रेडरिक डगलस
  • जब तुम एक अच्छी किताब पढ़ लेते हो तो दुनिया में कहीं से अधिक प्रकाश आने के लिए एक दरवाजा खुल जाता है - वीरा नजरियन
  • किताबों के बिना एक घर खिड़कियों के बिना कमरे जैसा है - हेनरिच मान
  • जो अच्छी पुस्तक नहीं पढ़ता, वह उस व्यक्ति से श्रेष्ठ नहीं हो सकता जो पढ़ नहीं सकता - मार्क ट्वेन
  • केवल एक बात जो तुम्हारे लिए जानना जरूरी है, वह यह कि लाइब्रेरी कहां है - अल्बर्ट आइंनस्टीन
  • शक हो तो लाइब्रेरी जाओ - जेके रॉलिंग


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Youths of Deewana village created 3 open libraries to connect new generation with literature


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33801cI

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages