�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Sunday, November 15, 2020

झगड़े में जख्मी का मेडिकल करा थाने पहुंचे वकील भाइयों को दी थर्ड डिग्री, उन्हीं पर पर्चा

हैबोवाल स्थित बैंक कॉलोनी में दिवाली की रात दो पक्षों में मारपीट हुई। जिसमें कुछ पुलिस मुलाजिमों पर भी हमला हुआ। इस दौरान पुलिस मुलाजिमों की वर्दी भी फाड़ दी गई और सरकारी काम में विघ्न डाला।

इसके बाद थाना हैबोवाल की पुलिस ने वकील भाइयों, सरपंच और अन्य के खिलाफ मारपीट और ड्यूटी में विघ्न डालने का पर्चा दर्ज कर दिया। जबकि पीड़ित वकीलों ने पुलिस पर थाने में उन्हें थर्ड-डिग्री देने का आरोप लगाया।

वहीं, दूसरे पक्ष ने उनके घर पर आरोपियों द्वारा की गई मारपीट में पुलिस द्वारा कोई भी कार्रवाई न करने का आरोप लगाकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उन पर हुए अन्याय के लिए इंसाफ की मांग की। इधर, सीनियर एडवोकेट नरिंदर आदिया ने बताया कि वकील भाई सिद्धार्थ चांदी और मोहित के घर के पास दो पक्षों में झगड़ा हो गया।

जब हंगामा बढ़ा तो दोनों भाई देखने चले गए। देखते ही देखते पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस ने ‌वकील भाइयों से कहा कि वे लोगों को शांत करें। एक अच्छे नागरिक होने की वजह से उन्होंने लोगों को शांत किया और पुलिस ने उन्हीं पर कार्रवाई कर दी।

एडवोकेट नरिंदर आदिया के मुताबिक हैबोवाल के एसएचओ जसकंवल सिंह सेखों ने पीड़ित वकील भाइयों से कहा वो सरपंच नरिंदर का मेडिकल करवाकर, उन्हें थाने ले आएं तो वो आगे की कार्रवाई करें।

उनका आरोप है कि मेडिकल के बाद दोनों भाई(वकील) जब सरपंच को लेकर थाने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें भी अंदर कर दिया। जिसके बाद उन्हें बेरहमी से पीटा और फोन छीन लिये। पिटाई से दोनों के पूरे शरीर पर चोट के निशान भी बन गए।

सारी रात थाने में भूखे रखा और देर रात उन्हीं(वकील भाइयों) पर ही ड्यूटी में विघ्न डालने और पुलिस से मारपीट का पर्चा दर्ज कर दिया गया। वकीलों ने आरोप लगाया कि जब दोनों वकील भाइयों को कोर्ट में पेश किया तो वो सही से चल भी नहीं पा रहे थे।

साथी वकीलों ने उनसे बात करनी चाही। इस बीच पुलिस ने एक वकील का हाथ मरोड़ दिया। इसके बाद वकीलों ने कोर्ट के बाहर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। जब मजिस्ट्रेट परमजीत ऋषि की कोर्ट में वकीलों को पेश किया तो उन्होंने सारी बात बताई। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें बेल दे दी।

दूसरे पक्ष का तर्क- पुलिस ने सिर्फ मुलाजिमों पर हुए हमले का दर्ज किया पर्चा
दूसरे पक्ष के राजिंदर सिंह ने आरोप लगाया कि दीवाली की रात को सरपंच और उसके वकील साथी गली में पटाखे चला रहे थे।

बार-बार उनके घर के बाहर पटाखे चला रहे थे। उन्होंने बाहर निकलकर उन्हें कहा कि पटाखे दूर जाकर चलाएं, क्योंकि वो हार्ट के मरीज हैं। इतना बोलते ही सरपंच ने अपने साथियों को बुला लिया। जिन्होंने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। फिर उनकी पत्नी आशा रानी और दोनों बेटों को भी पीटा। उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त लोगों ने उनके घर का सारा सामान तोड़ दिया।

इसकी शिकायत लेकर एसएचओ से की। लेकिन उन्होंने सरपंच और उसके साथियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। बस अपने मुलाजिम पर हुए हमले का पर्चा दर्ज कर दिया। उन्होंने पुलिस से उनके मामले में कार्रवाई की मांग की है।

आपसी लड़ाई में आईं चोटें : एसएचओ

उधर, एसएचओ जसकंवल सेखों ने कहा कि दोनों पक्षों का झगड़ा हो रहा था। उनके सब-इंस्पेक्टर शाम सिंह को पता चला तो वो वहां पहुंच गए। जहां सरपंच नरिंदर और दोनों वकीलों ने उनके मुलाजिमों से धक्का-मुक्की की और वर्दी फाड़ दी। तभी उनपर पर्चा दर्ज किया गया।

उन्होंने मुझपर मारपीट के आरोप लगाए है। लेकिन मेरी तरफ से किसी को नही पीटा गया और न ही किसी मुलाजिम ने उन्हें पीटा। जो चोंटे आई है, वो आपसी झगड़े में लगी है।

वकील आज मीटिंग कर बनाएंगे रणनीति

सीनियर वकील नरिंदर आदिया ने कहा कि झगड़ा दोनों ग्रुपों में हुआ था। अगर दोनों पक्षों की रिपोर्ट पुलिस को मिल गई थी, तो दोनों पर पर्चा कर देते, सिर्फ वकीलों पर क्यों?

इससे एसएचओ की मंशा का पता चलता है, कि वो सिर्फ वकीलों पर कार्रवाई करना चाहते थे। सोमवार को वो इस संबंध में मीटिंग करेंगे। अगर एसएचओ पर पर्चा दर्ज कर उसे सस्पेंड न किया गया। तो वो रोष प्रदर्शन करेंगे, जिसकी जिम्मेदार सरकार होगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Advocate brothers got third degree for medical treatment in injured


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/38MnDac

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages