�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Wednesday, December 9, 2020

नक्सली बने जंगल के भी दुश्मन, रास्ता रोकने के लिए काट दिए 7 हरे-भरे पेड़

पीएलजीए सप्ताह के दौरान नक्सली अपनी उपस्थित दर्ज कराने लगातार घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। मंगलवार को आमाबेड़ा इलाके में घूम रहे नक्सलियों ने दो अलग अलग जगहों पर सात पेड़ काट कर कांकेर आमाबेड़ा मार्ग को जाम कर दिया। इसे साथ ही उसमें केंद्र सरकार के नए कृषि कानून के विरोध का बैनर व पोस्टर भी लगा दिया।
अपनी उपस्थिति दर्ज कराने इस वारदात को अंजाम देने नक्सली मंगलवार से ही इलाके में सक्रिय हो गए थे। कुएमारी एरिया कमेटी ने घटना को अंजाम देने रात में दो भागो में बंट गई। जिसमें से एक टीम कुएमारी से निकल मलांजकुड़ूम पहुंची और पुसाघाटी में पेड़ों को काट कर मार्ग अवरूद्ध कर दिया। दूसरी टीम टीमनार होते हुए उसेली के पास पेड़ काट मार्ग जाम की। पेड़ काटने के बाद उसमें बैनर लगाए गए। जिसमें पीएलजीए सप्ताह मनाने व केंद्र सरकार के नए कृषि कानून के विरोध की बातें लिखी रही। मार्ग जाम होने के इस मार्ग में बुधवार को चार पहिया वाहन नहीं चली। बुधवार को कांकेर व आमाबेड़ा में साप्ताहिक बाजार भी भरता है। लेकिन मार्ग बंद होने के कारण शहर के व्यापारी वहां नहीं जा सके। जबकि आमाबेड़ा से कांकेर आने वाले ग्रामीण भी मार्ग बंद होने के कारण यहां नहीं आ सके।

प्रसाद ने संभाली थी कमान इधर शादी में आई नक्सली
वारदात को अंजाम देेने जो दो टीम बनी थी उसमें एक टीम का नेतृत्व एलजीएस कमांडर प्रसाद कर रहा था। जबकि दूसरे टीम का नेतृत्व डीवीसी मेंबर तीजू व सुरेश कर रहे थे। सुरेश इस इलाके में नया नक्सली सदस्य है। जो हाल में यहां घूमते हुए देखा गया है। जबकि प्रसाद व तीजू लंबे समय से काम कर रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक महिला नक्सली इलाके में आयोजित एक शादी में भी पहुंची थी। जो घटना के बाद वहां से गायब हो गई।

पुलिस की थी नजर लेकिन नहीं मिल सका मौका
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आमाबेड़ा इलाके में पिछले दो दिनों से कुएमारी एरिया कमेटी के लोगों के घूमने की जानकारी पुलिस को मिली थी। इसके बाद पुलिस इनके पीछे लग गई थी। लेकिन तकनीकी कारणों के चलते पुलिस उन्हें घेर नहीं सकी और नक्सली वहां से भाग निकले। मंगलवार दोपहर में ही वे सक्रिय हो गए थे और बुधवार तड़के पेड़ काट मार्ग में किए। इसके बाद वे पुलिस के आने के डर से वहां से भागने लगे। बुधवार 11 बजे खड़का के आसपास देखे गए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Naxalites also become enemies of the forest, cut down 7 green trees to stop the way


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2K6QN9R

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages