�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, December 17, 2020

सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते हैं फाजिल्कावासी, हमें इन पर गर्व

1971 के भारत-पाक युद्ध में देश की रक्षा के लिए शहादत पाने वाले बहादुर जवानों को आसफवाला वार मेमोरियल में वीरवार को आयोजित समागम में श्रद्धांजलि भेंट की गई। इस मौके पर लेफ्टिनेंट जनरल आलोक कलेर, परम विशिष्ट सेवा मेडल, विशिष्ट सेवा मेडल, जनरल ऑॅफिसर कमांडिंग इन चीफ, सप्तशक्ति कमांड ने शहीदों की समाधि और श्रद्धांजलि भेंट की।

इसके अलावा लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार मागो, विशिष्ट सेवा मेडल, सेना मेडल, जनरल ऑॅफिसर कमांडिंग, चेतक कौर, फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर अरविंद पाल सिंह संधू, जिला और सेशन जज तरसेम मंगला, एसएसपी हरजीत सिंह ने भी शहीदों को श्रद्धासुमन भेंट किए। इस मौके पर जनरल ऑॅफिसर कमांडिग इन चीफ, सप्तशक्ति कमांड लेफ्टिनेंट जनरल आलोक कलेर ने फाजिल्का के सेना के साथ गहरे रिश्ते का जिक्र करते हुए कहा कि यहां लोग और सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते हैं और सेना को इस रिश्ते पर गर्व है। उन्होंने 1971 की जंग में शहीद हुए जवानों के परिवारों को सम्मानित करते हुए उनके प्रति भी श्रद्धा प्रकट की, जिनके पारिवारिक सदस्यों ने देश के लिए लड़ते कुर्बानियां दी थी।

श्रद्धांजलि कार्यक्रम में लेफ्टिनेंट जनरल आलोक कलेर ने संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय सेना देश की सरहदों की रक्षा के लिए पूरी तरह से समर्थ व प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि चाहे पाकिस्तान हो या चीन की सरहद हमारे जवान हर हालत के साथ के मुकाबले में के लिए तैयार हैं और दुश्मन को की किसी भी गलती की बड़ी कीमत देनी पड़ेगी। उन्होंने नौजवानों को संदेश देते न्यौता दिया कि वे अधिक से अधिक सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करें। जो लोग सेना में भर्ती नहीं भी हो सकते, वे भी सेना जैसे जज्बे के साथ अपने देश की सेवा करें।

लाइट एंड साउंड कार्यक्रम के जरिए 1971 की लड़ाई का किया चित्रण
डिप्टी कमिश्नर अरविंद पाल सिंह संधू और शहीदों की समाधि कमेटी के प्रधान संदीप गिल्होत्रा ने लेफ्टिनेंट जनरल आलोक कलेर को स्मृति चिह्न भी भेंट किया। इस दौरान प्रफुल्ल नागपाल ने मेहमानों का स्वागत किया और कर्ण गिल्होत्रा ने सभी का धन्यवाद किया। इस मौके ब्रिगेडियर धनंजय पलसोकर ने भी संबोधित किया।

समागम में ब्रिगेडियर हरदीप सिंह, वेद प्रकाश डीआईजी सीमा सुरक्षा बल के अलावा सेना, बीएसएफ व सिविल प्रशासन के अधिकारी, शहीदों की समाधि कमेटी के पदाधिकारी, शहीदों के परिवार और इलाके के अन्य लोग मौजूद थे। इस से पहले बीती रात एक लाइट एंड साउंड प्रोग्राम में बेरीवाला में 1971 की जंग का चित्रण किया गया था। इसके अलावा भारतीय सेना के बहादुर जवानों द्वारा पश्चिमी सीमाओं की सुरक्षा में दिए गए सर्वोच्च बलिदान और देश की संप्रभुता को दर्शाया गया। शो के दौरान फाजिल्का में 1971 की लड़ाई को पुनर्जीवित करने के लिए लाइव कमेंट्री के साथ नकली युद्ध का मैदान बनाकर उस दौरान की घटनाओं के बारे में बताया गया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान के साथ किया गया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
1971 के युद्ध में शहीद परिवारों को नमन करते लेफ्टिनेंट जनरल आलोक कलेर।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3npRKZH

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages