�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Sunday, January 3, 2021

तातापानी महोत्सव के आयोजन पर 50 साल बाद लगा ब्रेक

बलरामपुर जिले के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल तातापानी में इस साल मेले का आयोजन नहीं होगा। 50 सालों से अधिक समय से हो रहे तीन दिवसीय महोत्सव के लिए इस साल प्रशासन ने अनुमति नहीं दी है।
अब स्थानीय समिति छोटे स्तर पर ही प्रतीकात्मक आयोजन करेगी। इस दौरान मेले में विभिन्न प्रदेशों से आने वाले व्यापारी भी अपनी दुकानें नहीं लगाएंगे और न ही सांस्कृतिक व धार्मिक आयोजन किए जाएंगे। मालूम हो कि गर्म पानी के प्राकृतिक जल स्त्रोत और प्रसिद्ध शिव मंदिर होने के कारण तातापनी प्रमुख सिद्ध क्षेत्रों में शुमार है। मान्यता है कि मकर संक्रांति के अवसर पर यहां के गर्म जल में स्नान करने से चर्म रोग संबंधी बीमारियों से मुक्ति मिलती है। इस कारण यहां पिछले 50 से अधिक सालों से हर साल मकर संक्रांति के अवसर पर तीन दिवसीय मेले का आयोजन किया जाता है। वहीं मकर संक्रांति के अवसर पर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा और झारखंड समेत विभिन्न प्रदेशों से लोग यहां पर गर्म जल और चर्म रोग से मुक्ति के लिए पहुंचते हैं। इसके साथ ही मेले में भी विभिन्न प्रदेशों के व्यापारी अपनी दुकानें लगाने के लिए यहां पहुंचते हैं। इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए मेले के बृहद आयोजन की अनुमति देने से प्रशासन ने इंकार कर दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों ने मेला समिति के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर इस साल किसी भी धार्मिक या सांस्कृतिक आयोजन नहीं करने के निर्देश दिए हैं। वहीं बाहर से आने वाले व्यापारियों को भी अनुमति नहीं देने के निर्देश दिए हैं।

स्थानीय लोगों को रहता है इंतजार: मेले में विभिन्न प्रदेशों के व्यापारी दुकानें लगाने पहुंचते हैं। इस कारण आसपास कोई बड़े मेले का आयोजन नहीं होने के कारण स्थानीय लोगों को तातापानी महोत्सव का बेसब्री से इंतजार रहता है। क्षेत्र में पत्थर के सिल-बट्‌टे व अन्य घरेलू सामग्रियों की उपलब्धता नहीं होने के कारण लोगों को तातापानी महोत्सव में खरीदारी का मौका मिलता है।

समिति करेगी प्रतीकात्मक आयोजन
समिति के सदस्य विजय गुप्ता ने बताया कि कोरोना को देखते हुए मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा। मेले में झूला, बड़ी दुकानें नहीं लगेंगीं। इसके साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन नहीं किया जाएगा। मंदिर में पूजा-पाठ का कार्यक्रम पहले की तरह ही किया जाता रहेगा। इसके लिए प्रशासन ने अनुमति दे दी है। इसके अलावा स्थानीय स्तर के छोटे व्यापारियों को मेले में दुकानें लगाने की अनुमति होगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
After 50 years, there was a break on the organization of Tatapani Festival


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2L0W0Rg

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages