�� Online shopping Info �� All types of letest tech Info update is provided hare (tech,shopping,auto,movie,products,health,general,social,media,sport etc.) Online products Shopping

test

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Wednesday, January 6, 2021

ठंडी हवाओं से बचने के लिए जिलावासी आगामी प्रबंध रखें मुकम्मल : डीसी

डिप्टी कमिश्नर अरविंद पाल सिंह संधू ने कहा कि कोविड-19 की महामारी से सारी दुनिया पहले ही जूझ रही है और अब ठंड के मौसम में ठंडी हवाएं चलने से स्वास्थ्य के साथ संबंधित अन्य समस्याएं पैदा हो सकतीं हैं। इस लिए हमें सभी को इस से बचने के लिए पहले से ही तैयारियां रखनी चाहीए। उन्होंने कहा कि जिला निवासियों को खुद के अलावा, पशुओं और दूसरे वस्तुओं की सांभ-संभाल के लिए पहले से प्रबंध मुकम्मल करने यकीनी बनाने चाहिए।

इस संबंधी अधिक जानकारी देते सिविल सर्जन डॉ. कुंदन के पाल ने कहा कि शीत लहर के समय कोविड -19 से बचने के लिए मास्क लाजिमी पहना जाए और सोशल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि ठंडी हवाओं से बचने के लिए गर्म कपड़े लाजिमी डाले जाएं और दस्ताने, टोपी, मफलर और बूट ठंडी हवाओं से बचने में सहायक होते हैं। शीत लहर में अधिक घुटने वाले कपड़े न डाले जाएं क्योंकि इससे खून का प्रवाह कम हो जाता है।

उन्होंने कहा कि शरीर में बीमारियों से लड़ने की ताकत को बढ़ाने के लिए पौष्टिक आहार जैसे विटामिन सी के साथ भरपूर फल और सब्जियों आदि का प्रयोग किया जाए । सिविल सर्जन ने कहा कि शरीर का तापमान कम होने, न रुकने वाली कंपकंपी लगने, याददाश्त चले जाने, बेहोशी, जुबान का लड़खड़ाना के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टरी इलाज लिया जाए। शीत लहर के समय बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

उन्होंने कहा कि शीत लहर के समय क्रोनिक बीमारियां जैसे कि शूगर, हाई ब्लड प्रेशर और सांस की तकलीफ के मरीज, 6 साल से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं और बुजुर्ग व्यक्ति जिन की उम्र 60 साल से अधिक है उन का खास ध्यान रखा जाए।

कमरों में कोयले वाली अंगीठी का प्रयोग न किया जाए

डॉ. पाल ने कहा कि कमरे में वेंटिलेशन होने पर ही रूम हीटर, संगमरमर आदि उपकरणों का प्रयोग किया जाए। कमरों में कोयले वाली अंगीठी का प्रयोग न किया जाए क्योंकि कोयले के जलने पर कार्बन मोनोआक्साइड गैस पैदा होती है जो कि मौत का कारण बन सकती है। जरूरी वस्तुएं जैसे खाना, पैट्रोल, बैटरियां, चार्जर, दवाईयों आदि का प्रबंध शुरू से ही अपने पास होना यकीनी बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कोल्ड वेव दौरान पशुओं को ताकत के लिए आम की अपेक्षा अधिक चारे की जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि कोल्ड वेव दौरान पशुओं की प्रजाति बढ़ने में भी दिक्कत आती है इसलिए इन की संभाल करनी लाजिमी है। पशुओं के ठहराने वाली जगह चारों ओर से कवर होनी चाहिए जिससे किसी से भी हवा दाखिल न हो सके। उन्होंने कहा कि एमरजेंसी लाईट और जरूरी दवाइयां लाजिमी तैयार रखी जाएं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Mx8HUm

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages